धोद,थाने के सामने जारी धरने की रणनीति बनाने के लिए संघर्ष समिति की मीटिंग आयोजित की गई

प्रेस विज्ञप्ति

आज दिनांक 6 /2 /2022 को धोद थाने के सामने जारी धरने की रणनीति बनाने के लिए संघर्ष समिति की मीटिंग आयोजित की गई, जिसमें संघर्ष समिति ने धोद थाने के अंतर्गत हो रही लगातार चोरियों पर विचार विमर्श किया गया, जनता के आक्रोश के अनुरूप आगे की रणनीति बनाई गई, जिसमें संघर्ष समिति ने निर्णय लिया कि पुलिस प्रशासन द्वारा और 2 दिन का समय देने के लिए कहा है जिस पर दिनांक 10/02/2022 तक धरने को सांकेतिक जारी रखने व संघर्ष समिति ने सर्वसम्मति से दिनांक 11/02/2022 से धोद थाने के सामने हजारों किसानों के साथ धरना देने का निर्णय लिया गया, साथ ही धोद थाने की लापरवाही से रोजाना हो रही चोरियां, डकैती, हत्या, पर आक्रोश व्यक्त किया गया, व क्षेत्र में फैली अराजकता के खिलाफ आर-पार की लड़ाई का निर्णय लिया है, धोद की जनता से धरने को सफल बनाने के लिए धरने में शामिल होने की अपील की गई है, विगत दिनों गांव बिंजसी में हो रही लगातार चोरियों के कारण जनता का आक्रोश धोद थाने के सामने धरने में बदल गया व दिनांक 30 /01/2022 से 02/02/2022 तक हजारों किसानों के द्वारा धोद थाने के सामने पड़ाव दिया गया, पुलिस प्रशासन व ग्रामीणों के साथ हुई वार्ता में पुलिस को पांच दिन का समय देने के कारण धरने को सांकेतिक धरने में बदल दिया, बिंजासी गांव में रामचंद्र ढाका की दुकान में दो बार चोरी हो गई, जिसमें करीब 15 लाख का सामान चोरी हो गया व सांवरमल रूलानिया के घर से ₹ दस लाख रूपये के गहने की चोरी हो गई, विजयपाल डूकिया के खेत से फव्वारे की चोरी हो गई, इसके अलावा गांव में पिछले 6 माह में 30 चोरीयां हो गयी, जिससे ग्रामीणों में आक्रोश है! मीटिंग में गोविंद राम रूलानिया, बनवारी रूलानिया, बनवारी बिजारणीया, महेश भाखर, रामचंद्र रूलानिया,रूडाराम महला,किशन पारीक, चुनाराम फौजी, घिसालाल रेवाड़,हरलाल रूलानिया, विजयपाल डूकिया, विकास ढाका, शिवभगवान रेवाड़ आदि मौजूद रहे

Leave a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *