फ़तेहपुर में 5 साल के बच्चे ने रखा रोजा,अल्लाह से मांगी ये दुआ

फ़तेहपुर में 5 साल के बच्चे ने रखा रोजा, अल्लाह से मांगी ये दुआ

पाक महीना रमजान की शुरुआत रविवार से हो गई है. पहले रोजे को मुसलिम समुदाय के घरों में बड़ों के साथ कई बच्चे भी रोजे पर

फ़तेहपुर मुस्लिम समाज के पवित्र माह रमजान में रोजा रखने वालों पर अल्लाह की रहमत की बारिश होती है. माना जाता है कि रमजान के माह में अल्लाह हर एक नेकी के बदले कई गुणा नेकियों का सबाब अता फरमाते हैं. रमजान का रोजा बड़ों के साथ-साथ मासूम बच्चे भी रख रहे हैं. फ़तेहपुर शहर के मोहल्ला तेलियान का समीर गुर्जर का लङका फैसल जिसकी उम्र सिर्फ़ 4 साल 8 महिने का है ईस छोटी सी उम्र उसने अपना पहला रोजा रखा और अपने माता पिता के साथ देशवासियों के लिए अमन चैन की अल्लाह पाक से दुआएं की पांच साल का बेटा फैसल ने भी रविवार को पहला रोजा अल्लाहःफैसल ने बताया कि रोजा रखने से अल्लाह खुश होते हैं. इसलिए मैंने रोजा रखा है. रमजान के माह में रोजा रखने से अल्लाह हर एक नेकी के बदले 70 नेकियों का सबाब अता फरमाते हैं. इसलिए मैंने रोजा रखा है. इफ्तार के समय घरवालों के साथ इफ्तार करना अच्छा लगता है. इफ्तार के समय फैसल ने अल्लाह से दुआ भी मांगी. उसने आगे कहा कि इफ्तार के समय की दुआ कबूल होती है.

फैसल के जिद के आगे झुके घरवालेः घरवालों ने बताया कि गर्मी को देखते हुए हमलोंगाों ने फैसल को बड़ा होने पर रोजा रखने का सलाह दिया, लेकिन उसने जिद कर दी की उसे रोजा रखना है. बच्ची की जिद के बाद घर वाले भी फैसल के रोजा रखने की बात मान गया और वे इस बात को लेकर बेहद खुश भी हैं. फैसल फूल माला पहनाकर इफ्तार देकर बैठाया गया.