Search for:
  • Home/
  • Uncategorized/
  • रूस बोला- हमें अपनी सेना में भारतीयों की जरूरत नहीं:बिचौलियों ने उन्हें सेना में शामिल कराया था, जल्द भारत लौटेंगे

रूस बोला- हमें अपनी सेना में भारतीयों की जरूरत नहीं:बिचौलियों ने उन्हें सेना में शामिल कराया था, जल्द भारत लौटेंगे

रूसी सेना में शामिल भारतीयों को जल्द रिहा किया जाएगा। उन्हें वापस भारत लाने की कोशिशें की जा रही हैं। न्यूज एजेंसी ANI से बात करते हुए भारत में रूस के राजनयिक रोमन बबुश्किन ने कहा कि इस मामले पर रूस, भारत सरकार के साथ है। हमें भारतीय सैनिकों की जरूरत नहीं है। रूसी सेना में शामिल भारतीयों की संख्या 50 से 100 के बीच बताई जाती है। बबुश्किन ने बताया कि इन लोगों को एजेंट्स के द्वारा धोखाधड़ी के जरिए सेना में शामिल कराया गया था। ये एजेंट्स आपराधिक गतिविधियों में शामिल होते हैं। वे अवैध तरीके से लोगों को लाकर सेना में शामिल कराते हैं। भारतीयों की वापसी के लिए मैकेनिज्म तैयार
बबुश्किन ने कहा कि हमने भारतीयों की वापसी के लिए एक मैकेनिज्म तैयार किया गया है। हम इसके लिए भारत सरकार के साथ मिलकर काम करने को प्रतिबद्ध हैं और इस समस्या का समाधान ढूंढ रहे हैं। बबुश्किन ने बताया कि रूसी सेना में भारतीयों की संख्या बहुत कम है। उनमें से अधिकतर तकनीकी कामों में लगे हुए हैं। रूसी सेना में भारतीयों के होने से उनके मिशन को कोई खास फर्क नहीं पड़ने वाला है। विदेश सचिव बोले- पीएम ने रूस में मुद्दा उठाया
प्रधानमंत्री के साथ रूस दौरे पर विदेश सचिव विनय मोहन क्वात्रा ने मंगलवार को मॉस्को में प्रेस ब्रीफिंग के दौरान बताया था कि दोनों देशों के नेताओं के बीच इस मुद्दे को लेकर बातचीत हुई है। रूस ने जल्द ही सेना से भारतीयों को डिस्चार्ज कर वापसी का वादा किया है। दोनों पक्ष इसे लेकर काम कर रहे हैं। अब तक 180 भारतीय भेजे गए हैं रूस
रूस की सेना में भर्ती कई भारतीय नागरिकों की अब तक मौत हो चुकी है। भारत की जांच एजेंसी CBI ने अप्रैल में भारतीयों को धोखे से रूस-यूक्रेन जंग में भेजने के मामले में 4 लोगों को गिरफ्तार किया था। इनमें से तीन लोग भारत के थे, जबकि एक रूस के रक्षा मंत्रालय में काम करने वाला ट्रांसलेटर था। ये सभी लोग एक नेटवर्क का हिस्सा थे, जिसमें सोशल मीडिया के जरिए भारतीयों को नौकरी और अच्छी सैलरी का लालच देकर फंसाया जाता है। CBI के मुताबिक, दिल्ली-बेस्ड एक वीजा कंपनी अब तक करीब 180 भारतीयों को रूस भेज चुकी है।

Leave A Comment

All fields marked with an asterisk (*) are required