Search for:
  • Home/
  • Uncategorized/
  • रूस के खिलाफ अमेरिका में एकजुट हुए नाटो देश:बाइडेन बोले- पुतिन को रोकेगा यूक्रेन, रूस से लड़ने के लिए देंगे मिसाइल सिस्टम

रूस के खिलाफ अमेरिका में एकजुट हुए नाटो देश:बाइडेन बोले- पुतिन को रोकेगा यूक्रेन, रूस से लड़ने के लिए देंगे मिसाइल सिस्टम

9 जुलाई को प्रधानमंत्री मोदी पुतिन से मुलाकात के बाद रूस से रवाना हो रहे थे, तभी नाटो देश अपनी 75वीं वर्षगांठ मनाने के लिए वॉशिंगटन में जुटे। नाटो का मेंबर नहीं होने के बावजूद यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की भी इस समिट में शामिल हुए। एक तरफ जहां पुतिन ने मोदी को रूस का सर्वोच्च नागरिक सम्मान दिया। वहीं, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने 10 साल से नाटो चीफ रहे जेन्स स्टोलटेनबर्ग को अमेरिका के सर्वोच्च नागरिक सम्मान से नवाजा। 81 साल के जो बाइडेन ने नाटो समिट में वादा किया कि वो यूक्रेन को रूस से बचाने में पूरी ताकत लगा देंगे। यूक्रेन को 5 नए एयर डिफेंस सिस्टम देगा अमेरिका
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने नाटो समिट की शुरूआत में घोषणा करते हुए कहा कि रूस के खिलाफ जंग में वो यूक्रेन को 5 आधुनिक एयर डिफेंस सिस्टम मुहैया कराएंगे। उन्होंने ये भी कहा कि रूस-यूक्रेन जंग के बीच सैन्य संगठन नाटो सबसे अहम दौर से गुजर रहा है और अब तक की सबसे मजबूत स्थिति में है। बाइडेन ने कहा कि वो अमेरिका, जर्मनी, इटली, नीदरलैंड और रोमानिया के साथ मिलकर यूक्रेन को पैट्रियट मिसाइल सिस्टम और अन्य उपकरण डोनेट करेंगे। दूसरी ओर अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि नाटो के सहयोगी देश जल्द ही यूक्रेन को F-16 फाइटर जेट देंगे। ‘यूक्रेन को आत्मरक्षा में सैन्य ठिकानों पर हमले का अधिकार’
ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री कीर स्टार्मर भी नाटो समिट में शामिल होने के लिए वाशिंगटन पहुंचे।प्रधानमंत्री के तौर पर स्टार्मर का यह पहला विदेशी दौरा है। उन्होंने प्रेस से बात करते हुए कहा कि यूक्रेन उनके दिए मिसाइल का रूस के मिलिट्री टारगेट्स पर इस्तेमाल कर सकता है। स्टार्मर ने कहा कि हमने यूक्रेन को अपनी आत्मरक्षा के लिए मिसाइल सिस्टम दिया है। इसका कैसे इस्तेमाल करना है ये यूक्रेन के ऊपर है। ब्रिटेन ने यूक्रेन को स्टार्म शैडो मिसाइल दिए हुए हैं। चीन बोला- नाटो के एक्शन से दुनिया की सुरक्षा को खतरा
नाटो के महासचिव स्टोलटेनबर्ग ने समिट से पहले चीन पर रूस की मदद का आरोप लगाया था। अब इस पर चीन की ओर से भी प्रतिक्रिया आई है। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लिन जियान ने कहा कि नाटो की तथाकथित सुरक्षा अन्य देशों की सुरक्षा को दांव पर लगाती है। प्रवक्ता जियान ने आरोप लगाते हुए कहा कि नाटो के एक्शन्स ने दुनिया में जोखिम पैदा कर दिया है। स्टोलटेनबर्ग ने सोमवार को ईरान, नॉर्थ कोरिया और चीन पर यूक्रेन में रूस की जंग को बढ़ावा देने के आरोप लगाए थे। भारत ने कल कहा- युद्ध के मैदान में समाधान नहीं
भारत के प्रधानमंत्री मोदी ने कल ही रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन से कहा है कि जंग के मैदान से शांति का रास्ता नहीं निकलता है। बम, बंदूक और गोलियों के बीच शांति संभव नहीं होती है। समाधान के लिए वार्ता जरूरी है। ये बयान ऐसे समय में आया जब दूसरी ओर नाटो देश रूस के खिलाफ जंग में यूक्रेन को समर्थन और सहयोग देने के लिए इकट्ठा हुए हैं। पीएम की इस बात के जवाब में पुतिन ने कहा, ‘आप यूक्रेन संकट का जो हल निकालने की कोशिश कर रहे हैं हम उसके लिए आपके आभारी हैं।’ पीएम ने बातचीत के दौरान आतंकवाद का मुद्दा भी उठाया और कहा कि आतंकवाद हर देश के लिए खतरा बना हुआ है। मोदी के रूस दौरे पर नाराजगी जताते हुए यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की कह चुके हैं कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश के नेता का दुनिया के सबसे खूनी नेता को गले लगाना निराशाजनक है। एक नजर नाटो से जुड़े GK पर

Leave A Comment

All fields marked with an asterisk (*) are required