Search for:
  • Home/
  • Uncategorized/
  • पुतिन ने मोदी को आलीशान घर में कराया डिनर:मरम्मत का खर्च 4 हजार करोड़, 24 घंटे तैनात रहते हैं 42 प्लेन और 15 हेलीकॉप्टर

पुतिन ने मोदी को आलीशान घर में कराया डिनर:मरम्मत का खर्च 4 हजार करोड़, 24 घंटे तैनात रहते हैं 42 प्लेन और 15 हेलीकॉप्टर

तारीख 8 जुलाई, दो दिन के रूस दौरे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मिलने उनके आधिकारिक आवास पहुंचे। इसका नाम नोवो-ओगारियोवो है। यहां दोनों नेताओं ने प्राइवेट डिनर किया और कई मुद्दों पर निजी बातचीत की। उनकी इस बातचीत के दौरान पुतिन के आधिकारिक आवास नोवो-ओगारियोवो की लग्जरी तस्वीरें भी सामने आईं। इन तस्वीरों ने खूब सुर्खियां बंटोरी। इस स्टोरी में जानिए पुतिन के आधिकारिक आवास नोवो-ओगारियोवो के बारे में…..
पुतिन के पहली बार राष्ट्रपति बनने के ठीक एक साल बाद 2000 में नोवो-ओगारियोवो उनका आधिकारिक आवास बना था। यह मॉस्को से 30 मिनट की दूरी पर है। साल 2008 में जब पुतिन का दूसरा टर्म खत्म हुआ तो उन्हें यह आवास गिफ्ट कर दिया गया। इसके बाद से ही पुतिन यहां रहते हैं। कहा जाता है कि पुतिन कोरोना महामारी के वक्त भी अपना सारा समय इसी आवास में बिताया था। ये जगह मॉस्को की भीड़-भाड़ से दूर है इसलिए अक्टूबर 2015 से पुतिन यही से अपने ऑफिस का काम निपटाने लगे। सोवियत काल के दौरान नोवो-ओगारियोवो एक गेस्ट हाउस था। यहां पर विदेशी मेहमान रहते थे। पहली बार इस भवन को 19वीं शताब्दी में सम्राट अलेक्जेंडर तृतीय के भाई ग्रैंड ड्यूक सर्गेई एलेक्जेंड्रोविच आदेश पर बनाया गया था। बाद में इसमें मेहमानों के ठहरने के लिए इस्तेमाल किया जाने लगा। मोदी की तरह पुतिन ने दुनिया के दूसरे नेताओं को भी अपने नोवो-ओगारियोवो आवास में आमंत्रित किया है। 2002 में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश और उनकी पत्नी लॉरा ने पुतिन से इसी घर में मुलाकात की थी। इसके बाद वे 2005 में भी इस घर में मेहमान बनकर आए थे। इसी तरह 2009 में बराक ओबामा भी पुतिन से मिलने इसी घर में आए थे। नोवो-ओगारियोवो की सुरक्षा के लिए चारों तरफ से 6 मीटर की दीवार बनी हुई है। इस आवास की कीमत का अंदाजा से बात से लगाया जा सकता है कि इसकी मरम्मत के लिए 4 हजार करोड़ रुपए लगते हैं। ये दावा पुतिन के कट्टर दुश्मन रहे एलेक्सी नवलनी ने किया था। तस्वीरों में देखिए… क्या है इसकी खासियत
लाइव इओ की रिपोर्ट के मुताबिक, पुतिन के आवास नोवो-ओगारियोवो में साल 2022 में हेलीकॉप्टरों की लैंडिंग के लिए हैलीपैड, एक गेस्ट हाउस, एक स्विमिंग पूल और एक ओपन-एयर थिएटर बनाया गया था। इसके आस-पास एक खूबसूरत जंगल, जो नदियों से घिरा हुआ है। इसके अलावा यहां एक बड़ा सा मैदान भी है। नोवो-ओगारियोवो में पुतिन के लिए स्पेशल स्पोर्ट्स और हेल्थ कॉम्प्लेक्स है। यहां 24 घंटे 43 प्लेन तैनात रहते हैं। इन प्लेन में 300 से ज्यादा लोग यात्रा कर सकते हैं। इसके अलावा यहां 15 स्पेशल हेलीकाप्टर भी हमेशा मौजूद रहते हैं। इनमें से हर एक हेलीकाप्टर की कीमत 8 हजार करोड से भी ज्यादा है। यहां एक प्राइवेट रेलवे स्टेशन भी है। एक स्वतंत्र रूसी मीडिया संस्थान प्रोएक्ट ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इस प्राइवेट रेलवे स्टेशन के लिए फेडरल गार्ड सर्विस ने निजी मालिकों से जमीन जब्त की है। इस स्टेशन को कम कोचेज के लिए डिजाइन किया गया है और सुरक्षा के लिए ऊंची बाड़बंदी की गई है। निगरानी के लिए हर 10 मीटर पर CCTV कैमरे हैं। इस घर में गेस्ट के लिए बारबेक्यू भी है। गर्मी से बचने के लिए यहां छोटे-छोटे तालाब बनाए गए है। अमेरिकी राष्ट्रपति का आधिकारिक आवास व्हाइट हाउस आम जनता के लिए खुला है वहीं, नोवो ओगारियोवो में किसी आम जनता के जाने की अनुमति नहीं है।​​ 1950 के दशक में हुई नोवो-ओगारियोवो के बनने की शुरुआत
नोवो-ओगारियोवो की नई बिल्डिंग को 1950 के दशक के शुरुआती सालों में बनाया गया। इसे सोवियत यूनियन के प्रीमियर रहे जॉर्जी मैलेनकोव के आदेश पर बनाया गया था। इसे बनाने के लिए आर्किटेक्ट ने मैलेनकोव की बेटी के डिजाइन का इस्तेमाल किया था। 1955 में मैलेनकोव के पद से हटने के बाद इसे मेहमानों के स्वागत और ठहरने के लिए इस्तेमाल में लाया जाता रहा। 1991 से नोवो-ओगारियोवो का सरकारी आवास के तौर पर इस्तेमाल होने लगा। साल 2000 में व्लादिमीर पुतिन ने राष्ट्रपति बनने के बाद इसके रेनोवेशन का काम शुरू कराया था।

Leave A Comment

All fields marked with an asterisk (*) are required