Search for:
  • Home/
  • Uncategorized/
  • डोडा में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच एनकाउंटर शुरू:एक महीने में डोडा में चौथी मुठभेड़; कल कठुआ में आतंकी हमले में 5 जवान शहीद हुए

डोडा में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच एनकाउंटर शुरू:एक महीने में डोडा में चौथी मुठभेड़; कल कठुआ में आतंकी हमले में 5 जवान शहीद हुए

जम्मू-कश्मीर के डोडा में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच एनकाउंटर शुरू हो गया है। एनकाउंटर में 2-3 आतंकियों के फंसे होने की आशंका है। सेना और आंतकियों की तरफ से लगातार फायरिंग हो रही है। जम्मू डिविजन के डोडा में यह एक महीने में चौथा एनकाउंटर है। यहां 12 जून को दो आतंकी हमले हुए थे। इसके बाद 26 जून को एक हमला हुआ था। सभी हमलों के बाद सेना और आतंकियों के बीच एनकाउंटर हुए थे। वहीं सोमवार (8 जुलाई) को आतंकियों ने कठुआ जिले में सेना के वाहन पर हमला किया था, जिसमें जूनियर कमीशंड ऑफिसर (JCO) समेत 5 जवान शहीद हुए थे जबकि 5 जवान घायल हुए। आतंकियों की तलाशी के लिए ऑपरेशन जारी है। डोडा में पिछले एनकाउंटर्स के बारे में पढ़ें… तारीख: 11 जून, रात 1-2 बजे क्या हुआ: आतंकियों ने डोडा के भद्रवाह-पठानकोट मार्ग पर 4 राष्ट्रीय राइफल्स और पुलिस की जॉइंट चेकपोस्ट पर फायरिंग की। 5 जवान और एक स्पेशल पुलिस ऑफिसर (SPO) घायल हो गए। हमले की जिम्मेदारी आतंकवादी संगठन कश्मीर टाइगर्स (जेईएम/जैश) ने ली। तारीख: 12 जून, रात 8:20 बजे क्या हुआ: डोडा के गंडोह में कोटा टॉप में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ हुई। इसमें स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) के कॉन्स्टेबल फरीद अहमद जख्मी हो गए। फिलहाल उन्हें इलाज के लिए गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज डोडा में भर्ती कराया गया है। इलाके में सर्च ऑपरेशन जारी है। तारीख: 26 जून, सुबह 9:50 बजे क्या हुआ: 3 आतंकी मारे गए
डोडा जिले के गंडोह इलाके में 26 जून को सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया था। सुबह 2-3 आतंकियों के इलाके में छिपे होने की सूचना के बाद पुलिस और सेना ने सर्च ऑपरेशन लॉन्च किया था, जिसके बाद सुबह 9.50 बजे एनकाउंटर शुरू हुआ था। इस एनकाउंटर में जम्मू-कश्मीर पुलिस में तैनात स्पेशल ऑपरेशंस ग्रुप का जवान भी घायल हुआ था। कठुआ में आतंकियों ने पहाड़ी से घात लगाकर सेना के ट्रक पर ग्रेनेड फेंका
8 जुलाई को सुरक्षाबल दो ट्रकों में कठुआ से करीब 123 किलोमीटर दूर लोहाई मल्हार ब्लॉक के माछेड़ी इलाके के बडनोटा में दोपहर 3.30 बजे पहाड़ी इलाके में पेट्रोलिंग के लिए निकले थे। रास्ता कच्चा था, गाड़ी की रफ्तार भी धीमी थी। एक तरफ ऊंची पहाड़ी और दूसरी तरफ खाई थी। आतंकियों ने पहाड़ी से घात लगाकर सेना के ट्रक पर पहले ग्रेनेड फेंका, फिर स्नाइपर गन से फायरिंग की। सेना ने भी काउंटर फायरिंग की, लेकिन आतंकी जंगल में भाग गए। फिलहाल सेना, आतंकियों की तलाश में हेलिकॉप्टर, स्निफर डॉग्स, और ड्रोन की मदद ले रही है। न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक, हमले में 3 से 4 आतंकियों के शामिल होने की बात सामने आ रही है। वे एडवांस हथियारों से लैस हैं। ये आतंकी हाल ही में सीमा पार से घुसपैठ करके आए हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, आतंकियों को हमले में लोकल गाइड ने भी मदद पहुंचाई है। उन्होंने आतंकियों को खाना और हमले के बाद छिपने में भी मदद की। पूरी खबर यहां पढ़ें… मैप के जरिए कठुआ हमले की लोकेशन समझें… आतंकी 9 जून को रियासी हमले की थ्योरी दोहराना चाहते थे
9 जून को दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीसरी बार शपथ ले रहे थे। उसी समय जम्मू के रियासी से खबर आई कि आतंकियों ने श्रद्धालुओं की बस पर फायरिंग कर दी है। फायरिंग में ड्राइवर को टारगेट किया गया। इसकी वजह से बस बेकाबू होकर गहरी खाई में जा गिरी। 9 यात्रियों की मौत हुई, जबकि 42 लोग घायल हो गए। पूरी खबर पढ़ें… 8 जुलाई को कठुआ में भी आतंकियों ने हमले की यही थ्योरी अपनाई। आतंकियों ने ऊंची पहाड़ियों से सेना के ट्रक पर हमला किया। टारगेट ड्राइवर को किया। हालांकि, खराब सड़क की वजह से ट्रक 10 से 15 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार में था, इसलिए खाई में नहीं गिरा। इसके बाद आतंकियों की फायरिंग में 5 जवान शहीद हुए और 5 घायल हो गए। ग्रामीण ने कहा- 10 मिनट पहले यहां से एक बस गुजरी थी
घटनास्थल से कुछ मीटर की दूरी पर दुकान चलाने वाले पूरन चंद शर्मा ने बताया- हमले से करीब 10 मिनट पहले एक बस सड़क से गुजरी थी। हमने एक जोरदार धमाका सुना। हमें लगा जैसे किसी गाड़ी का पहिया ब्लास्ट हुआ हो। कुछ देर बाद हुई भारी गोलीबारी से लगा कि एनकाउंटर चल रहा है। शाम 5 बजे तक भारी गोलीबारी हुई। उसके बाद एक घंटे तक रुक-रुक कर फायरिंग होती रही। शर्मा ने बताया- मेरी दुकान पर करीब 12 ग्रामीण थे। गोलीबारी में फंसने से बचने के लिए हम अंदर छिप गए। गोलीबारी बंद होने के बाद हम हताहतों को निकालने में मदद करने के लिए दौड़े। एक अन्य स्थानीय विजय कुमार ने कहा बताया- आतंकवादी उस बस में सवार होकर आए होंगे, जो गोली चलने से कुछ देर पहले ही वहां से गुजरी थी।

Leave A Comment

All fields marked with an asterisk (*) are required