Search for:
  • Home/
  • Uncategorized/
  • चीनी सेना ने लद्दाख के पास हथियार इकट्ठा किए:सैटेलाइट तस्वीर से खुलासा; बंकर बनाए, इलाके में बख्तरबंद गाड़ियां भी मौजूद

चीनी सेना ने लद्दाख के पास हथियार इकट्ठा किए:सैटेलाइट तस्वीर से खुलासा; बंकर बनाए, इलाके में बख्तरबंद गाड़ियां भी मौजूद

चीन की सेना पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के बॉर्डर के पास बड़े पैमाने पर हथियार इकट्ठा कर रही है। US फर्म ब्लैकस्काई ने इसकी सैटेलाइट तस्वीरें जारी की हैं। इन तस्वीरों में यहां हथियार और ईंधन के भंडारण के लिए चीनी सैनिकों के बनाए बंकर दिखाई दे रहे हैं। ये बंकर 2021-22 के दौरान बनाए गए हैं। इनमें ईंधन और हथियारों को छिपाया गया है। इस जगह पर बख्तरबंद गाड़ियां भी देखी गई हैं। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, पैंगोंग झील के पास सिरजैप में चीनी सैनिकों का बेस है। यहां चीनी सैनिकों का मुख्यालय भी है। इस जगह पर भारत अपना दावा करता आया है। ये LAC से सिर्फ 5 किलोमीटर दूर है। 2020 में भारतीय सैनिकों से झड़प के बाद चीन ने बनाए बंकर
5 मई 2020 को चीनी सैनिक और भारतीय सैनिकों के बीच झड़प हो गई थी। उस वक्त ये पूरा इलाका खाली था। यहां न कोई गाड़ी थी, न ही कोई चौकी। चीनी सेना ने इसके बाद इलाके में धीरे-धीरे अपनी गतिविधियां बढ़ाईं। ब्लैकस्काई ने जो तस्वीर ली है वह 30 मई की है। इसमें एक भूमिगत बंकर साफ दिख रहा है। इस बंकर में 5 दरवाजे हैं। बंकर को इस तरह डिजाइन किया गया की इसे हवाई हमले से कोई नुकसान न हो। ब्लैकस्काई के एक विशेषज्ञ ने नाम न बताने की शर्त बताया कि इस बेस में कई बख्तरबंद गाड़ियों को छुपाया जा सकता है, परीक्षण रेंज, ईंधन और गोला-बारूद को इकट्ठा करने के लिए जगह भी है। चीनी सेना ने इस बंकर तक पहुंचने के लिए सड़कों और खाइयों का नेटवर्क बनाया है। सरकार की तरफ से कोई जवाब नहीं आया
ये बेस गलवान घाटी से 120 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में है, जहां जून 2020 को भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प हुई थी। इस दौरान 20 भारतीय सैनिकों की जान चली गई थी। अब तक भारत सरकार की तरफ से कोई भी जवाब नहीं आया है। एक पूर्व भारतीय सेना के अधिकारी ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर बताया कि आज के समय में उपग्रहों या हवाई निगरानी प्लेटफार्मों का उपयोग करके सब कुछ सटीक रूप से पता लगाया जा सकता है। बेहतर सुरक्षा व्यवस्था बनाने के लिए सुरंग बनाना ही एकमात्र उपाय है।

Leave A Comment

All fields marked with an asterisk (*) are required