Search for:
  • Home/
  • Uncategorized/
  • बंगाल गवर्नर बोले-दो विधायकों को स्पीकर का शपथ दिलाना अंसवैधानिक:राष्ट्रपति मुर्मू को लेटर लिखा, संविधान के आर्टिकल 188 का हवाला भी दिया

बंगाल गवर्नर बोले-दो विधायकों को स्पीकर का शपथ दिलाना अंसवैधानिक:राष्ट्रपति मुर्मू को लेटर लिखा, संविधान के आर्टिकल 188 का हवाला भी दिया

पश्चिम बंगाल में 2 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में जीत कर आए TMC विधायकों को शुक्रवार (5 जुलाई) को स्पीकर बिमान बनर्जी ने शपथ दिलाई। गवर्नर आनंद बोस ने इसे असंवैधानिक बताया। इसके लिए उन्होंने राष्ट्रपति मुर्मू को लेटर भी लिखा। आनंद बोस ने संविधान के आर्टिकल 188 का हवाला देते हुए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X पर कहा कि विधायकों की शपथ के लिए डिप्टी स्पीकर को जिम्मा दिया गया था। संविधान और परंपराओं के मुताबिक राज्यपाल शपथ के लिए जिसे अधिकृत करता है, शपथ उसे ही दिलानी होती है। 5 पॉइंट में समझिए पूरा मामला… विधायक सांयतिका बोलीं- देरी के लिए गवर्नर जिम्मेदार
हमें विधानसभा के भीतर शपथ लेकर बहुत खुशी हुई। हमारे शपथ ग्रहण में देरी के कारण हम विधायक के रूप में अपने निर्वाचन क्षेत्रों की सेवा करने में असमर्थ थे। हमारे कार्यकाल का समय दो साल से भी कम है। ऐसे में जनता की सेवा के लिए समय महत्वपूर्ण था। मेरे क्षेत्र की जनता को सेवा नहीं मिल पाई, इसके लिए गवर्नर जिम्मेदार हैं। क्या कहता है आर्टिकल 188? यह खबर भी पढ़ें… महिला का आरोप- राज्यपाल ने यौन उत्पीड़न किया, गवर्नर बोस की गिरफ्तारी और जांच क्यों नहीं हो सकती 2 मई 2024 की रात। PM नरेंद्र मोदी कोलकता स्थित राजभवन पहुंचने वाले थे। रात यहीं गुजारकर अगले दिन उन्हें पश्चिम बंगाल के कई चुनावी कार्यक्रमों में शामिल होना था। PM के पहुंचने से कुछ घंटे पहले एक महिला ने आरोप लगाया कि राज्यपाल सीवी आनंद बोस ने दो अलग-अलग मौकों पर उसका यौन उत्पीड़न किया है। महिला की शिकायत के बावजूद राज्यपाल के खिलाफ अभी तक यौन उत्पीड़न की धाराओं में केस दर्ज नहीं हुआ है। बंगाल पुलिस कानूनी सलाह ले रही है कि इस मामले में कार्रवाई कैसे की जाए? इसकी वजह यह है कि राज्यपाल के पद पर रहने वाले व्यक्ति को संविधान से केस और गिरफ्तारी से इम्यूनिटी मिली हुई है। पूरी खबर पढ़ें…

Leave A Comment

All fields marked with an asterisk (*) are required