Search for:
  • Home/
  • Uncategorized/
  • NEET मामले में टेरर फंडिंग का शक:महाराष्ट्र में 4 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज, नांदेड़ ATS ने लातूर से 1 को हिरासत में लिया

NEET मामले में टेरर फंडिंग का शक:महाराष्ट्र में 4 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज, नांदेड़ ATS ने लातूर से 1 को हिरासत में लिया

NEET पेपर लीक मामले में टेरर फंडिंग का शक है। महाराष्ट्र में नांदेड़ की एंटी टेररिस्ट स्क्वाड (ATS) ने इस मामले में 4 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज की है। इनमें से एक को रविवार रात लातूर से हिरासत में लिया गया है। इससे पहले ATS ने रविवार को लातूर में दो टीचर संजय तुकाराम जाधव और जलील उमरखां पठान को हिरासत में लेकर लंबी पूछताछ की थी। इसके बाद उन्हें छोड़ दिया गया। इनमें से जलील को देर रात फिर से हिरासत में ले लिया गया। NEET मामले की जांच ED को सौंपने पर फिलहाल SC का आदेश नहीं
इससे पहले आज सोमवार को NEET UG मामले की जांच ED को सौंपने की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने कोई आदेश नहीं दिया। जस्टिस एएस ओका और जस्टिस राजेश बिंदल की वेकेशन बेंच ने कहा कि मामले की अगली सुनवाई 8 जुलाई को होने दें। अभी कोई जल्दबाजी नहीं है। यह सुनवाई 10 जून को सुप्रीम कोर्ट में दायर शिवानी मिश्रा समेत 10 शिकायतकर्ताओं की याचिका पर ही थी। एडवोकेट मैथ्‍यूज नेदुम्‍परा ने एग्जाम में गड़बड़ियों की जांच ED को सौंपने और दोषियों पर मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत कार्रवाई किए जाने की अपील की थी। NTA सुधार कमेटी की पहली बैठक आज होगी
दूसरी तरफ NTA में सुधार के लिए बनी हाईलेवल कमेटी की आज सोमवार को पहली बैठक होगी। कमेटी में 7 मेंबर शामिल हैं और ISRO के चीफ के. राधाकृष्णन इसके प्रमुख हैं। CBI आज करेगी बिहार में पेपर लीक की जांच
CBI सोमवार को NEET विवाद की जांच करने पटना पहुंचेगी। बिहार EOU से रिपोर्ट लेने के बाद गिरफ्तार लोगों को पूछताछ के लिए दिल्ली लाया जा सकता है। एग्जाम में हुई गड़बड़ियों को लेकर एजुकेशन मिनिस्ट्री की शिकायत पर रविवार 23 जून को CBI ने पहली FIR दर्ज की थी। मिनिस्ट्री से मिले कुछ रेफरेंस के आधार पर अज्ञात लोगों के खिलाफ IPC के सेक्शन 120-B (क्रिमिनल कॉन्स्पिरेसी) और 420 (चीटिंग) समेत कई धाराओं में FIR दर्ज की गई। जांच के लिए CBI ने दो स्पेशल टीम बनाई हैं, जो पटना और गोधरा जाएंगी। केंद्र सरकार ने 22 जून की रात जांच की जिम्मेदारी CBI को सौंपी थी। 23 जून को 1563 कैंडिडेट्स का रीएग्‍जाम हुआ, 750 ने पेपर छोड़ा
5 मई को हुई NEET परीक्षा के रिजल्‍ट में ग्रेस मार्क्‍स पाने वाले 1563 कैंडिडेट्स के लिए रविवार को री-एग्‍जाम हुआ। एग्जाम दोपहर 2 बजे से शाम 5:20 बजे के बीच शेड्यूल किया गया था। 1563 में से कुल 813 कैंडिडेट्स ही एग्जाम में शामिल हुए। 750 कैंडिडेट्स एग्जाम देने नहीं पहुंचे। चंडीगढ़ में सिर्फ दो कैंडिडेट्स के लिए एग्जाम सेंटर बनाया गया, दोनों ही नहीं पहुंचे। उधर, NTA की वेबसाइट हैक होने की अफवाह भी सामने आई। इस पर एक अधिकारी ने कहा कि उनका पोर्टल पूरी तरह सुरक्षित है। NTA ने रीएग्‍जाम के एडमिट कार्ड 20 जून को जारी किए थे। रिजल्‍ट 30 जून तक जारी किया जाएगा। संशोधित रिजल्ट जारी होने के बाद काउंसलिंग 6 जुलाई से शुरू होगी। शिक्षा मंत्रालय के अधिकारी एग्जाम सेंटर्स पर मौजूद रहे
NTA ने इस एग्जाम के लिए बने टेस्ट सेंटर्स पर ऑब्जर्वर अपॉइंट किए। एग्जाम के दौरान NTA और शिक्षा मंत्रालय के अधिकारी भी एग्जाम सेंटर्स पर मौजूद रहे। NEET PG परीक्षा शनिवार देर रात स्‍थगित की गई
शनिवार रात 10 बजे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने NEET PG प्रवेश परीक्षा को स्‍थगित कर दिया। परीक्षा 23 जून को होनी थी। मंत्रालय ने कहा है कि ऐसा एहतियाती उपाय के तौर पर किया जा रहा है। परीक्षा की नई तारीख जल्द ही घोषित की जाएगी। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, ‘कुछ प्रतियोगी परीक्षाओं में गड़बड़ी की हालिया घटनाओं को ध्यान में रखते हुए, स्वास्थ्य मंत्रालय ने NEET-PG प्रवेश परीक्षा की तैयारियों की मजबूती की जांच करने का निर्णय लिया है। इसके अनुसार कल यानी 23 जून, 2024 को होने वाली NEET-PG प्रवेश परीक्षा को स्थगित करने का निर्णय लिया गया है।’ पूरी खबर पढ़ें शनिवार रात NTA के DG हटाए गए
केंद्र सरकार ने शनिवार रात 9 बजे NTA (नेशनल टेस्टिंग एजेंसी) के महानिदेशक सुबोध कुमार सिंह को हटा दिया। प्रदीप सिंह खरोला को नया डीजी नियुक्त किया गया है। खरोला इंडियन ट्रेड प्रोमोशन ऑर्गनाइजेशन के CMD हैं। 1 मई 2024 को उन्हें स्टाफ सिलेक्शन कमीशन (SSC) के चेयरमैन का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया था। NTA में सुधार के लिए 7 सदस्‍यों की कमेटी बनाई गई
इससे पहले 22 जून की दोपहर शिक्षा मंत्रालय ने NTA की परीक्षाओं में गड़बड़‍ियां रोकने और पारदर्शिता लाने के लिए 7 सदस्यीय हाई लेवल कमेटी का ऐलान किया था। ISRO के पूर्व चेयरमैन और IIT कानपुर के पूर्व डायरेक्‍टर के. राधाकृष्‍णन इसके चीफ बने। यह कमेटी 2 महीने में शिक्षा मंत्रालय को रिपोर्ट सौंपेगी। NTA की कमेटी ने दिया था ग्रेस मार्क्स कैंसिल कर री-एग्जाम का सुझाव
NEET परीक्षा में 1563 कैंडिडेट्स को दिए गए ग्रेस मार्क्‍स के खिलाफ कई कैंडिडेट्स ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। इस मामले की जांच के लिए NTA ने कमेटी बनाई थी। इस कमेटी ने 10, 11 और 12 जून को बैठक की। कमेटी ने सुझाव दिया है कि ग्रेस मार्क्‍स पाने वाले 1563 कैंडिडेट्स के स्‍कोरकार्ड निरस्‍त किए जाने चाहिए और इनके लिए दोबारा परीक्षा कराई जानी चाहिए। वहीं, इन स्‍टूडेंट्स को उनके बगैर ग्रेस मार्क्‍स वाले ओरिजिनल स्‍कोर भी बताए जाने चाहिए। 20 हजार स्‍टूडेंट्स ने याचिका दर्ज की
देशभर में NEET UG 2024 को लेकर अलग-अलग राज्यों में लगभग 20 हजार स्टूडेंट्स ने परीक्षा में गड़बड़ी के खिलाफ याचिकाएं दायर की हैं। ग्रेस मार्क्स के खिलाफ दायर की गई याचिका में कहा गया कि NTA ने अब तक ये नहीं बताया कि उन्होंने स्टूडेंट्स को ग्रेस मार्क्स देने के लिए क्या तरीका अपनाया। वहीं, एग्जाम के पहले NTA की तरफ से जारी इन्फॉर्मेशन बुलेटिन में भी ग्रेस मार्क्स देने के प्रावधान का जिक्र नहीं था। ऐसे में कुछ कैंडिडेट्स को ग्रेस मार्क्स देना सही नहीं है। अंडरग्रेजुएट मेडिकल कोर्सेज में दाखिले के लिए होता है NEET एग्‍जाम
NEET UG यानी नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेस टेस्‍ट, अंडरग्रेजुएट राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा है। NEET परीक्षा मेडिकल और डेंटल कोर्सेज में एडमिशन के लिए आयोजित की जाती है। इस साल लगभग 24 लाख स्टूडेंट्स ने ये एग्जाम दिया था। इसके जरिए भारत और रूस, यूक्रेन समेत कुछ अन्‍य देशों में MBBS, BDS और अन्य मेडिकल कोर्सेज में एडमिशन मिलता है। शिक्षामंत्री ने पहले बचाव किया, फिर मानी NTA में गड़बड़ी
केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने 20 जून को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में कहा, ‘NEET के मामले में जो लाखों मेधावी छात्र परीक्षा में पास हुए हैं, उनके हितों का भी हमें ध्‍यान रखना है। एक नई कमेटी का गठन किया जाएगा जो NTA को बेहतर बनाने के लिए सुझाव देगी।’ ये भी पढ़ें… NEET में 1563 कैंडिडेट्स को ग्रेस मार्क्‍स क्‍यों:6 सेंटर्स पर बच्‍चे 3 हजार, शिकायतकर्ता 20 हजार; फिर NTA ने कैसे तय किया 1563 का नंबर NTA ने 13 जून को सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि रिजल्‍ट में जिन 1563 कैंडिडेट्स को ग्रेस मार्क्‍स दिए गए हैं, उनके मार्क्‍स कैंसिल होंगे और इन्‍हें रीएग्‍जाम का ऑप्‍शन दिया जाएगा। खास बात ये है कि NTA ने कोर्ट को इस बात का कोई सबूत नहीं दिया कि क्यों 1563 कैंडिडेट्स को ही ग्रेस मार्क्‍स दिए गए हैं। NTA ने सुप्रीम कोर्ट की पहली ही सुनवाई में रिजल्‍ट बदलने की बात कह दी। हालांकि, ये सवाल अभी भी बरकरार है कि NTA ने ग्रेस मार्क्‍स देने के लिए 1563 कैंडिडेट्स का चुनाव कैसे किया। पूरी खबर पढ़ें…

Leave A Comment

All fields marked with an asterisk (*) are required